pic credit twitter 1628165492


जापान की राजधानी टोक्यो में खेले जा रहे ओलंपिक खेलों में दीपक पूनिया (86 किग्रा) का ब्रॉन्ज मेडल जीतने का सपना चकनाचूर हो गया है। ब्रॉन्ज के लिए खेले गए मुकाबले में दीपक को सैन मैरिनो के पहलवान नज्म माइलेस अमीन के हाथों 2-4 से हार का सामना करना पड़ा है। दीपक ने माइलेस को कड़ी टक्कर दी, लेकिन मैच के आखिरी पलों में यह भारतीय रेसलर से जीत से दूर रह गया। दीपक को मिली हार पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उनका हौसला बढ़ाया है। वहीं, दूसरी तरफ रवि दहिया को भी 57 किग्रा फ्रीस्टाइल में हारकर सिल्वर मेडल से संतोष करना पड़ा। रवि को फाइनल मुकाबले में रूस के जावुर युगुऐव के खिलाफ हार झेलनी पड़ी। 

 

दीपक का डिफेंस पूरे मुकाबले के दौरान शानदार था लेकिन सैन मरिनो के पहलवान ने मुकाबले के अंतिम क्षणों में भारतीय पहलवान का दायां पैर पकड़कर उन्हें गिराकर निर्णायक दो अंक हासिल किए। इससे पहले 22 साल का भारतीय पहलवान 2-1 से आगे चल रहा था। दीपक अच्छे ड्रॉ का फायदा उठाकर सेमीफाइनल तक पहुंचे लेकिन अमेरिका के डेविड मौरिस टेलर से सेमीफाइनल में हार गए। उन्होंने इससे पहले नाइजीरिया के एकेरेकेमे एगियोमोर को तकनीकी श्रेष्ठता से और फिर क्वार्टरफाइनल में चीन के जुशेन लिन को 6-3 से हराया था। 

 

देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ब्रॉन्ज मेडल से चूके दीपक पूनिया का हौसला बढ़ाते हुए ट्वीट कर लिखा, ‘दीपक पूनिया बेहद करीब पहुंचकर ब्रॉन्ज से चूक गए, लेकिन उन्होंने हम सभी का दिल जीत लिया। वह टैलेंट और धैर्य के पावरहाउस हैं। भविष्य के लिए मेरी शुभकामनाएं दीपक के साथ हैं।’ इससे पहले रवि दहिया इतिहास रचने से चूक गए और गोल्ड मेडल के लिए खेले गए मैच में रूसी पहलवान से पार नहीं पा सके। रवि ने पहले पीरियड की शुरुआत में 2-2 की बराबरी कर ली थी, लेकिन फिर रूसी पहलवान ने जबरदस्त वापसी करते हुए स्कोर को 4-2 कर दिया था। इसके बाद रूसी पहलवान ने रवि को कोई मौका नहीं दिया। एक समय पर जवूर उगुएव 7-2 से आगे चल रहे थे, लेकिन तभी रवि दहिया ने दो पॉइंट और हासिल कर लिए, लेकिन मुकाबला नहीं हासिल कर सके।

संबंधित खबरें





Source link

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *