a primary teacher representative image 1615812873


शिक्षक पात्रता परीक्षा (टीईटी) की मान्यता आजीवन रहने के केंद्र सरकार के फैसले के बाद झारखंड के करीब एक लाख टेट पास अभ्यर्थियों में भी आस जगी है। झारखंड में अब तक दो बार 2013 और 2016 में शिक्षक पात्रता परीक्षा का आयोजन किया गया है। 2013 के अभ्यर्थी 2015-16 में नियुक्ति प्रक्रिया में शामिल हुए, जबकि 2016 के टेट अभ्यर्थियों को किसी नियुक्ति प्रक्रिया में शामिल होने का अब तक मौका नहीं मिल सका है।

TET की मान्यता अब सात साल की बजाय ताउम्र होगी, शिक्षा मंत्रालय ने जारी किया आदेश

अब  झारखंड सरकार राज्य के टेट पास अभ्यर्थियों के  सर्टिफिकेट की वैधता सात साल रखने या फिर आजीवन करने पर अंतिम निर्णय लेगी। 2013 में आयोजित टीईटी में  66,364 अभ्यर्थी पास किए थे। 2015-16 में चली नियुक्ति प्रक्रिया में 15,698 टेट पास अभ्यर्थियों की शिक्षक के पद पर नियुक्ति हो सकी थी। बाद में हाई कोर्ट के निर्देश के बाद फिर से फिर से काउंसलिंग शुरू की गई और करीब ढाई हजार शिक्षक नियुक्त हो सके। 2013 टेट के करीब 48 हजार अभ्यर्थी अभी भी बचे हुए हैं। वहीं 2016 शिक्षक पात्रता परीक्षा में 53 हजार अभ्यर्थी सफल हुए। इनके लिए आज तक नियुक्ति प्रक्रिया शुरू नहीं हो सकी है। ऐसे में राज्य 1.01 लाख  अभ्यर्थियों के सर्टिफिकेट की मान्यता आजीवन रह सकती है। 

48 हजार अभ्यर्थियों की वैधता हो चुकी है खत्म
2013 में शिक्षक पात्रता परीक्षा पास किए 48000 अभ्यर्थियों के सर्टिफिकेट की मान्यता पिछले साल 2020 में ही खत्म हो चुकी है। 2013 में जब टेट का आयोजन हुआ था उस समय पांच साल की वैधता रखी गई थी। मई 2018 में अभ्यर्थियों के सर्टिफिकेट की वैधता खत्म हुई तो इसमें दो साल की मान्यता बढ़ाई गई। 2020 में शिक्षा मंत्री जगरनाथ महतो ने दो साल और मान्यता बढ़ाने का प्रस्ताव दिया, लेकिन कोरोना  महामारी की वजह से उसे अमलीजामा नहीं पहनाया जा सका। इस आधार पर 2016 टेट पास अभ्यर्थियों के सर्टिफिकेट की मान्यता पांच साल से सात साल कर दी गई।
 

झारखंड में रिक्त हैं 39,408 शिक्षकों के पद
झारखंड में नई नियुक्ति नियमावली के अनुसार शिक्षकों की नियुक्ति होनी है। राज्य में फिलहाल 39,408 शिक्षकों के पद रिक्त हैं। पिछली सरकार में स्कूलों के विलय होने के बाद करीब 4500 शिक्षकों के पद खत्म हो गए हैं। हेमंत सरकार ने 2021 को नियुक्ति का वर्ष घोषित किया है और शिक्षक नियुक्ति की तैयारी भी चल रही है। नई नियुक्ति नियमावली से  होने वाली शिक्षक नियुक्ति  प्रक्रिया में प्राइमरी स्कूल में 17,835, मिडिल स्कूल में 4893, हाई स्कूल में 13,616 और प्लस टू स्कूल में 3064 शिक्षकों की नियुक्ति हो सकेगी।

संबंधित खबरें

Source link

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *