d5c517eda3c1efbdaec220f07c007ce6 original



<p style="text-align: justify;">भारत में लोग जितना मीठा खाते हैं शायद ही दुनिया में कोई खाता हो. शादी से लेकर बर्थडे पार्टी में हर फंक्शन में मिठाईयां जरूर बनती हैं. इतना ही नहीं ज्यादातर घरों में खाने के बाद कुछ न कुछ मीठा जरूर खाते हैं. अब द इंडियन जर्नल ऑफ कम्युनिटी मेडिसिन के एक रिसर्च में पाया गया है कि भारत में लोगों को चीनी की लत है जो खतरनाक स्तर पर है. भारत में खान-पीने की चीजों में चीनी का इस्तेमाल रिकॉर्ड स्तर पर किया जाता है जो बहुत खतरनाक है. भारत में हर साल होने वाली 80 प्रतिशत मौत की वजह डायबिटीज, कैंसर और हार्ट की बीमारियां है. ये रोग कहीं न कहीं चीनी से जुड़े हैं.&nbsp;</p>
<p style="text-align: justify;"><strong>दिनभर में कितने चम्मच चीनी खानी चाहिए?</strong><br />आप सोच रहे होंगे कि स्वस्थ रहने के लिए आप एक दिन में कितना &nbsp;मीठा खा सकते हैं. तो बता दें WHO की ओर से एक आदमी को एक दिन में 6 चम्मच से ज्यादा मीठा नहीं खाने की सलाह दी गई है. इससे आप मोटापे और डायबिटीज जैसी बीमारी से बचे रह सकते हैं. खाने में ऐसी चीजों को शामिल करने की कोशिश करें जिनमें नेचुरल शुगर हो. ​</p>
<p style="text-align: justify;"><strong>ज्यादा चीनी खाने से होने वाली बीमारियां</strong><br />1 अगर आप ज्यादा शुगर खाते हैं तो इससे आपको 1 टाइप 2 डायबिटीज होने का खतरा रहता है.<br />2 रोजाना ज्यादा चीनी खाने से पैंक्रियाज इंसुलिन का ज्यादा उत्पादन करते हैं जिससे शरीर में मौजूद कोशिकाएं इंसुलिन का प्रतिरोध करने लगती है.&nbsp;<br />3 ज्यादा मीठा खाने से हार्ट की समस्या होने लगती है.&nbsp;<br />4 शुगर की ज्यादा मात्रा से मोटापा बढ़ने लगता है.<br />5 ज्यादा मीठा खाने से सिरदर्द और तनाव भी पैदा होता है.</p>
<p style="text-align: justify;"><strong>यह भी पढ़ें: </strong></p>
<p style="text-align: justify;"><strong><a title=" बारिश के मौसम में खाएं ये फल और सब्जियां, बढ़ेगी रोग प्रतिरोधक क्षमता" href="https://www.abplive.com/lifestyle/health/7-fruits-and-vegetable-in-rainy-season-boost-your-immunity-and-stay-away-from-diseases-1932295" target=""> बारिश के मौसम में खाएं ये फल और सब्जियां, बढ़ेगी रोग प्रतिरोधक क्षमता</a></strong></p>



Source link

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *