25b1c7b24ec31d1fc6f5a37360f0eeba original



<p style="text-align: justify;"><strong>जेनेवाः </strong>विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने मंगलवार को सिनोवैक-कोरोनावैक की ओर से निर्मित कोविड-19 वैक्सीन को आपातकालीन उपयोग के लिए मंजूरी प्रदान कर दी है. कंपनी की ओर से यह आश्वासन दिया गया है कि यह वैक्सीन सुरक्षा, प्रभावकारिता और विनिर्माण के लिए अंतरराष्ट्रीय मानकों को पूरा करती है. वैक्सीन का निर्माण बीजिंग स्थित दवा कंपनी सिनोवैक ने किया है.</p>
<p style="text-align: justify;">स्वास्थ्य उत्पादों तक पहुंच सुनिश्चित करने के मामलों में डब्ल्यूएचओ के सहायक महानिदेशक मारियांगेला सिमाओ ने एक बयान में कहा, दुनिया भर में व्यापक पहुंच असमानता को दूर करने के लिए दुनिया को कई कोविड-19 टीकों की सख्त जरूरत है. सिमाओ ने कहा, हम प्रोड्यूसर्स से कोवैक्सीन फेसिलिटी में भाग लेने, अपने ज्ञान और डेटा को साझा करने और महामारी को नियंत्रण में लाने में योगदान करने का आग्रह करते हैं.</p>
<p style="text-align: justify;">डब्ल्यूएचओ की आपातकालीन उपयोग सूची (ईयूएल) कोवैक्सीन सुविधा वैक्सीन आपूर्ति और अंतरराष्ट्रीय खरीद के लिए एक आधार है. यह देशों को कोविड-19 टीकों के आयात और प्रशासन के लिए अपने नियामक अनुमोदन में तेजी लाने की भी अनुमति देता है. ईयूएल कोविड-19 टीकों की गुणवत्ता, सुरक्षा और प्रभावकारिता के साथ-साथ जोखिम प्रबंधन योजनाओं और कोल्ड चेन जैसी आवश्यकताओं का आकलन करता है.</p>
<p style="text-align: justify;">मूल्यांकन उत्पाद मूल्यांकन समूह द्वारा किया जाता है, जो दुनिया भर के नियामक विशेषज्ञों और एक तकनीकी सलाहकार समूह (टीएजी) से मिलकर बना है, जो एक स्वतंत्र सिफारिश के लिए जोखिम-लाभ मूल्यांकन करने के लिए जिम्मेदार है. यह निगरानी करते हुए यह देखता है कि क्या एक वैक्सीन को आपातकालीन उपयोग के लिए सूचीबद्ध किया जा सकता है और अगर हां, तो किन शर्तों के अधीन यह काम किया जाएगा.</p>
<p style="text-align: justify;">सिनोवैक-कोरोनावैक वैक्सीन के मामले में, डब्ल्यूएचओ के आकलन में उत्पादन सुविधा का साइट पर निरीक्षण शामिल रहा. सिनोवैक-कोरोनावैक उत्पाद एक निष्क्रिय टीका है. इसकी आसान भंडारण आवश्यकताएं इसे बहुत प्रबंधनीय बनाती हैं और विशेष रूप से कम-संसाधन सेटिंग्स के लिए उपयुक्त बनाती हैं.</p>
<p style="text-align: justify;">डब्ल्यूएचओ के स्ट्रेटेजिक एडवाइजरी ग्रुप ऑफ एक्सपर्ट्स ऑन इम्यूनाइजेशन (सेज) ने भी वैक्सीन की समीक्षा पूरी कर ली है. उपलब्ध साक्ष्यों के आधार पर, यह वैक्सीन 18 साल से ऊपर उम्र के लोगों को दी जाएगी. वहीं, पहली डोज लगने के बाद दूसरी डोज 2-4 हफ्तों के बाद दी जा सकती है.</p>
<p style="text-align: justify;"><strong>इसे भी पढ़ेंः</strong><br /><a href="https://www.abplive.com/news/india/maharashtra-ahmednagar-more-than-9900-children-test-corona-positive-dm-rajendra-bhosale-tells-reason-1921498"><strong>महाराष्ट्र के अहमदनगर में मई महीने में 9,900 बच्चों के कोरोना पॉजिटिव होने से हड़कंप? DM ने बताई ये वजह</strong></a></p>
<p style="text-align: justify;"><a href="https://www.abplive.com/news/india/monsoon-2021-imd-says-monsoon-likely-to-be-normal-across-country-1921486"><strong>Monsoon 2021: देश में इस बार कैसा रहेगा मानसून? मौसम विभाग ने जताई है ये उम्मीद</strong></a></p>



Source link

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *