sania mirza with son izhaan mirza photo ani 1621444647


टोक्यो ओलंपिक से पहले इंग्लैंड में कई टूर्नामेंट खेलने जा रहीं टेनिस स्टार सानिया मिर्जा के दो साल के बेटे के वीजा के लिए खेल मंत्रालय ने विदेश मंत्रालय के जरिए ब्रिटिश सरकार से मदद मांगी है। इससे पहले खेल मंत्रालय ने इस मामले में विदेश मंत्रालय से हस्तक्षेप करने का अनुरोध किया था। बता दें कि सानिया को छह जून से नॉटिंघम ओपन, 14 जून से बर्मिघम ओपन, 20 जून से ईस्टबोर्न ओपन और 28 जून से विम्बलडन में भाग लेना है।

मंत्रालय ने कहा, ‘खेल मंत्रालय की टारगेट ओलंपिक पोडियम योजना(टॉप्स) में शामिल सानिया ने मंत्रालय से अपने बेटे और उसकी देखभाल करने वाले के लिए वीजा दिलाने में मदद की अपील की।’ सानिया ने कहा कि वह अपने दो साल के बेटे को अकेले छोड़कर एक महीने के लिये यात्रा नहीं कर सकती। इस पूरे मामले पर खेलमंत्री किरेन रीजिजू ने कहा है कि, ‘मैंने अनुरोध को मंजूरी दे दी और खेल मंत्रालय के अधिकारी विदेश मंत्रालय के संपर्क में हैं। हमें उम्मीद है कि ब्रिटिश सरकार बच्चे को सानिया के साथ यात्रा करने की अनुमति देगी।’

कोरोना काल में लोगों की मदद के लिए इस पहलवान ने एम्बुलेंस में बदल दी अपनी कार 

बता दें कि सानिया ने इस साल मार्च महीने में लगभग 12 महीनों बाद कोई मैच खेला, जिसमें उन्होंने शानदार वापसी करते हुए जीत दर्ज की। तब उन्होंने स्लोवाकिया की अपनी जोड़ीदार आंद्रेजा क्लेपैक के साथ मिलकर नादिया किचेनोक और ल्युडमाइला किचेनोक की यूक्रेन की जोड़ी को हराकर कतर टोटल ओपन टेनिस टूर्नामेंट के महिला युगल क्वार्टर फाइनल में जगह बनाई थी। वह पिछली बार फरवरी 2020 में दोहा ओपन में ही खेली थीं, जिसके बाद कोविड-19 महामारी के कारण दुनिया भर में टेनिस टूर्नामेंट्स स्थगित कर दिए गए थे। सानिया खुद भी इस साल जनवरी में कोरोना वायरस संक्रमण से उबरी हैं।  





Source link

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *