1614863765


इस हफ्ते शेयर बाजार नई ऊंचाई को छुएगा या लगाएगा गोता?  इस सप्ताह रिजर्व बैंक की मौद्रिक नीति समीक्षा, पहली तिमाही के जीडीपी और पीएमआई जैसे वृहत आर्थिक आंकड़े, कोविड-19 को लेकर स्थिति और वैश्विक कारक बाजार की चाल पर कितना असर डालेंगे, बता रहे हैं रेलिगेयर ब्रोकिंग, जियोजीत फाइनेंशियल सर्विसेज, मोतीलाल ओसवाल फाइनेंशियल सर्विसेज और  रिलायंस सिक्योरिटीज के एनॉलिस्ट।

यह भी पढ़ें: मंडी समीक्षा: मिलावट पर रोक, विदेशों में बाजार टूटने से सरसों तेल-पामोलीन धराशायी, रिफाइंड के भाव में 180 रुपये की गिरावट 

रेलिगेयर ब्रोकिंग के उपाध्यक्ष (अनुसंधान) अजीत मिश्रा ने कहा, ”इस सप्ताह नये माह की शुरूआत के साथ कई प्रमुख आंकड़े जारी होंगे। वृहत आर्थिक मोर्चे पर, पहली तिमाही के जीडीपी आंकड़े, बुनियादी ढांचा क्षेत्र, विनिर्माण और सेवा के मार्किट पीएमआई आंकड़े इस सप्ताह जारी होने वाले हैं। उन्होंने कहा कि एक जून को वाहनों के बिक्री के आंकड़े जारी होंगे। ”सबसे महत्वपूर्ण घटना क्रम मौद्रिक नीति समिति (एमपीसी) की बैठक होने जा रही है जो इस सप्ताह ही होगी। इन सबके परिणाम का असर बाजार पर दिखेगा।

जियोजीत फाइनेंशियल सर्विसेज का अनुमान

जियोजीत फाइनेंशियल सर्विसेज के शोध प्रमुख विनोद नायर ने कहा, ”कोविड-19 मामलों में कमी के साथ इसकी रोकथाम के लिये लगाये गये ‘लॉकडाउन में ढील दिये जाने की संभावना है। इससे आर्थिक पुनरूद्धार को गति मिलेगी। उन्होंने कहा, ”कोविड-19 की दूसरी लहर के संक्रमण में कमी, अर्थव्यवस्था को धीरे-धीरे खोले जाने की उम्मीद का बाजार पर सकारात्मक प्रभाव पड़ेगा और यह पिछली ऊंचाई से ऊपर निकल सकता है। भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) शुक्रवार को मौद्रिक नीति समीक्षा पेश करेगा। इस पर निवेशकों की नजर होगी।

मोतीलाल ओसवाल की राय

मोतीलाल ओसवाल फाइनेंशियल सर्विसेज के खुदरा शोध प्रमुख सिद्धार्थ खेमका ने कहा, ”बाजार में सकारात्मक रुख की स्थिति बनी हुई है। इसका कारण कोविड-19 के मामलों में लगातार कमी और निवेशक जून में अर्थव्यवस्था को फिर से खोले जाने को लेकर उत्साहित हैं। इससे वाणिज्यिक गतिविधियों को गति मिलेगी। उन्होंने कहा, ”इस सप्ताह आरबीआई की एमपीसी के निर्णय पर नजर होगी। पिछले सप्ताह 30 शेयरों पर आधारित बीएसई सेंसेक्स 882.40 अंक यानी 1.74 प्रतिशत मजबूत हुआ था।

रिलायंस सिक्योरिटीज का अनुमान

रिलायंस सिक्योरिटीज के रणनीति प्रमुख विनोद मोदी ने कहा, ”आने वाले समय में राज्यों के स्तर पर लगाये गये ‘लॉकडाउन में ढील दिए जाने की उम्मीद है। इससे आर्थिक गतिविधियों में पुनरूद्धार में तेजी आने की संभावना है। फलत: बाजार को अल्पकाल से मध्यम अवधि में गति मिल सकती है। इन सबके अलावा अमेरिकी डॉलर के मुकाबले रुपये में उतार-चढ़ाव, ब्रेंट क्रूड के भाव तथा विदेशी संथागत निवेशकों के निवेश रुख भी बाजार को दिशा देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएंगे।
 



EMI Calculator:
EMI Calculator

Source link

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *