9e87071e4af70d03395ab3769f4b54ab original


फाइजर के सीईओ अल्बर्ट बोरला ने कहा है कि कोरोना वायरस के इलाज के लिए एक ऑरल दवा अगले साल तैयार हो सकती है. उन्होने कहा कि कंपनी दो एंटीवायरल दवाओं पर काम कर ही है जिनेमें से  एक ओरल और इंजेक्टेबल है.
 
अल्बर्ट ने सीएनबीसी से एक इंटरव्यू में कहा कि “हम दो एंटीवायरल दवाएं पर काम कर रहे हैं, एक इंजेक्टेबल है और दूसरी ओरल. ओरल दवा के कई फायदे हैं. उनमें से एक फायदा यह भी कि इंजेक्शन वाली दवा की तरह इसके लिए आपको अस्पतताल जाने की ज़रूरत नहीं पड़ेगी और आप इसे घर ले सकते हैं.” 

वर्ष के अंत तक मंजूरी की उम्मीद
अल्बर्ट ने कहा “अगर सब ठीक रहता है और हमारी यही स्पीड रहती है और यदि नियामक समय पर मंजूरी दे देते हैं  तो मुझे उम्मीद है कि वर्ष के अंत तक यह उपलब्ध हो जाएगी.” 

कोरोना वायरस के इलाज में उपयोग के लिए वर्तमान में केवल एक एंटीवायरल दवा रेमडेसिविर को मंजूरी मिली है, जिसे गिलियड साइंसेज ने बनाया है.  यूएस फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन (FDA) ने दवा को अक्टूबर में इसको फुल अप्रवूल दी थी जबकि पिछले साल मई में इसके इमरजेंसी यूज के लिए मंजूरी दी गई थी. 

कोरोना के मल्टीपल वेरिएंट के खिलाफ ज्यादा  प्रभावी होने का दावा
बोरला ने यह भी कहा कि दवा मौजूदा विकल्पों की तुलना में वायरस के मल्टीपल वेरिएंट के खिलाफ यह अधिक प्रभावी हो सकती है. उन्होंने कहा कि ” हमें यह विश्वास है कि यह दवा कई वेरिएंट के खिलाफ अधिक प्रभावी होगी. इसलिए यह  सभी के लिए एक अच्छी खबर है और हम स्टडी में प्रोग्रेस कर रहे हैं ”  

यह भी पढ़ें

क्या एक सस्ती और ‘यूनिवर्सल’ कोरोना वायरस वैक्सीन पर काम हो रहा है? जानिए बड़ी खबर

Coronavirus in India: भारत की मदद को आगे आया अंतरराष्ट्रीय समुदाय, ब्रिटेन ने भेजे वेंटिलेटर, फ्रांस देगा ऑक्सीजन जेनरेटर



Source link

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *