4b2a4ac16de30ef1faef9ace4c8fa092 original


Success Story Of IAS Topper Anurag Jain: आज आपको यूपीएससी परीक्षा पास कर आईएएस अफसर बनने वाले अनुराग जैन की कहानी बताएंगे जिन्हें यह सफलता दूसरे प्रयास में मिली. यूपीएससी में पहले प्रयास में भी सफलता के बेहद करीब जाकर चूक गए. ऐसे में उन्होंने अपनी गलतियों को सुधारा और साल 2018 में ऑल इंडिया रैंक 24 प्राप्त कर अपना सपना पूरा कर लिया. खास बात यह रही कि अनुराग ने ग्रेजुएशन के बाद करीब 2 साल तक नौकरी की. इसके बाद उन्होंने यूपीएससी में आने का प्लान बनाया.

ग्रेजुएशन के बाद ज्वाइन की नौकरी

अनुराग मूल रूप से उत्तर प्रदेश के लखनऊ के रहने वाले हैं. अपनी ग्रेजुएशन पूरी करने के बाद उन्होंने नौकरी ज्वाइन कर ली. करीब 2 साल तक जॉब करने के बाद उनका मन सिविल सेवा की तरफ आकर्षित हुआ. साल 2017 में उन्होंने पहली बार यूपीएससी की परीक्षा दी जिसमें उन्हें सफलता नहीं मिली. इसके बाद उन्होंने अपनी रणनीति बदली और साल 2018 में टॉपर्स की सूची में शुमार हो गए.

ऑप्शनल बेहद समझदारी से चुनें 

अनुराग का मानना है कि यूपीएससी में सफलता प्राप्त करने के लिए आपको ऑप्शनल सब्जेक्ट का चुनाव बेहद समझदारी से करना चाहिए. वे कहते हैं कि आप इस सब्जेक्ट को चुनने के लिए थोड़ा वक्त लें और यह देख लें कि आपको इस विषय में कितनी दिलचस्पी है और आपने इसके बारे में कितना पढ़ा है. उनका कहना है कि कई बार लोग गलत सब्जेक्ट को ऑप्शनल बना लेते हैं और उनके एटेम्पट बर्बाद हो जाते हैं. 

यहां देखें अनुराग का दिल्ली नॉलेज ट्रैक को दिया गया इंटरव्यू

अन्य कैंडिडेट्स को अनुराग की सलाह

अनुराग का मानना है कि यूपीएससी की तैयारी के लिए आपको अपना बेहतरीन शेड्यूल बनाना चाहिए. वे कहते हैं कि उन्होंने अपनी 2 साल की तैयारी के दौरान हर सप्ताह अपने शेड्यूल को चेक किया और उसी के हिसाब से तैयारी की. जहां उन्हें इसमें बदलाव करने की जरूरत पड़ी उन्होंने किया. उनका मानना है कि अगर आप कड़ी मेहनत के साथ लगातार तैयारी करेंगे तो आपको सफलता जरूर मिलेगी.

IAS Success Story: यूपीएससी में पहले प्रयास में हुईं फेल, दूसरे प्रयास में अच्छी रैंक नहीं मिली, आखिरकार तीसरे प्रयास में नम्रता बनीं आईएएस

Education Loan Information:
Calculate Education Loan EMI

Source link

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *