polished vs unpolished dal 1617609492


सभी दालें भारतीय भोजन के सबसे महत्वपूर्ण पोषक तत्वों में से एक हैं, विशेष रूप से शाकाहारियों के लिए। दालें प्रोटीन का सबसे महत्वपूर्ण स्रोत हैं। यह कहने के बाद, यह महत्वपूर्ण हो जाता है कि हम जो दालें खरीदते हैं, वह सबसे अच्छी गुणवत्ता की हों, साथ ही इष्टतम पोषण और स्वास्थ्य लाभ की भी गारंटी देती हो।

हालांकि पॉलिश की गई दाल चमकदार और आकर्षक लगती है, लेकिन क्या यह वास्तव में पौष्टिक है? क्या हम सौंदर्यशास्त्र के आधार पर अपने परिवार की सेहत के साथ समझौता कर रहे हैं? आइए जानें कि आपको पॉलिश दाल की बजाए अनपॉलिश दाल को क्यों चुनना चाहिए।

आइए पहले जानते हैं कि पॉलिशिंग क्या है

किराने की दुकान तक पहुंचने से पहले अधिकांश दालों को चमक प्रदान करने के लिए पॉलिशिंग की एक व्यापक प्रक्रिया से गुजरना पड़ता है। दालों की चमक बढ़ाने और उन्हें आकर्षक बनाने के लिए उनकी पॉलिशिंग की जाती है। जिसके लिए अलग-अलग पॉलिशिंग सामग्री का उपयोग किया जाता है-  जैसे कि नायलॉन पॉलिश, चमड़े और मखमल की पॉलिश और सबसे ज्यादा प्रचलित तेल और पानी की पॉलिश। ऐसा करने से दाल के प्रत्येक दाने को एक चमकदार रूप और एकरूपता मिलती है।

पॉलिश्ड बनाम अनपॉलिश्ड कौन सी दाल है ज्यादा फायदेमंद

पॉलिशिंग एक बहु-चरणीय प्रक्रिया है, जिसमें दालें अपने प्राकृतिक पोषक तत्वों को खो देती हैं। उदाहरण के लिए, अनपॉलिश दाल में भूसी के रूप में प्राकृतिक फाइबर होता है, जो कि दाल से चिपका रहता है। चमकाने की प्रक्रिया के दौरान, चमकाने वाले प्लांट भूसी को हटा देते हैं और दाल से प्राकृतिक फाइबर अलग कर देते हैं। 

जबकि यह हमारे पाचन तंत्र को स्वस्थ रखने के लिए जरूरी है। दूसरी बात यह है कि पॉलिश किए हुए दाल की तुलना में अनपॉलिश दाल में अधिक मात्रा में प्रोटीन होता है। यह हमें स्वाद देने के साथ-साथ प्राकृतिक पोषक तत्वों के अधिकतम पौष्टिक लाभों को प्राप्त करने में मदद करता है।

हर रोज एक कटोरी दाल आपको दे सकती है इतने सारे स्‍वास्‍थ्‍य लाभ 

1. हृदय के लिए फायदेमंद है

दालें आपके द्वारा खाए जाने वाले स्वास्थ्यप्रद खाद्य पदार्थों में से हैं। खाली कैलोरी वाले जंक फूड के विपरीत, वे बहुत पौष्टिक भोजन हैं। विशेषज्ञों के अनुसार, दालों को शरीर में खराब कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने के लिए जाना जाता हैं और इस प्रकार हृदय स्वास्थ्य को बेहतर बनाने में मदद करते हैं।
 

दालें कोलेस्ट्रॉल आधारित हृदय रोगों को रोकती हैं और हार्ट अटैक के जोखिम को कम करती हैं। इसके अलावा, कुछ दालों में उच्च मात्रा में पोटेशियम और सोडियम की कम मात्रा ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करने में सहायता करती है।

 

यह भी पढें: आज ही से बदल दें इन 6 खाद्य पदार्थों को दोबारा गर्म करके खाने की आदत, जानिए क्‍यों

2. पोषण का बेहतरीन स्रोत हैं

दालों में विटामिन और खनिज प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं। इनमें मौजूद पोषक तत्व आपके संतुलित आहार के एक बड़े हिस्से को पूरा करते हैं। विशेषज्ञों की मानें तो, दालें फाइबर, कैल्शियम, पोटेशियम और फोलेट का एक बड़ा स्रोत हैं। दूसरी ओर, दाल प्रोटीन, आयरन, विटामिन बी, मैग्नीशियम और जिंक में समृद्ध हैं। स्वास्थ्य के उचित कामकाज और रखरखाव के लिए शरीर को दैनिक रूप से सभी आवश्यक पोषक तत्वों की आवश्यकता होती है।

3. बीमारियों का जोखिम कम होता है

दालों के व्यापक और समृद्ध पोषक तत्वों की प्रोफ़ाइल से पता चलता है, कि उनके कई स्वास्थ्य लाभ हैं। कई दालों में कम ग्लाइसेमिक इंडेक्स होता है। इसका अर्थ है कि वे भोजन के बाद ब्लड शुगर लेवल में वृद्धि का कारण नहीं बनती हैं। 

विशेषज्ञों का सुझाव है कि इस प्रकार के भोजन के नियमित सेवन से मधुमेह रोगियों में ब्लड शुगर लेवल को नियंत्रित रखने में मदद मिल सकती है। वे एंटीऑक्सीडेंट में भी उच्च हैं, जो फ्री रेडिकल्स से लड़ती हैं और कई बीमारियों को रोकने के लिए प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत रखती हैं। इसके अलावा फाइबर में उच्च होने के चलते, वे पाचन तंत्र को साफ रखने में भी मदद करती हैं।
 

dal for diabeties

4. बढ़ती उम्र में और भी महत्वपूर्ण हैं दालें 

दाल का नियमित सेवन प्रोटीन और कैल्शियम जैसे पोषक तत्वों को प्राप्त करने का एक शानदार तरीका है। यदि आप शाकाहारी हैं तो वे पोषक तत्वों के संदर्भ में समुद्री भोजन और पशु उत्पादों को स्थानापन्न कर सकते हैं। एक पौष्टिक आहार बहुत महत्वपूर्ण है, जब आपकी उम्र बढ़ रही हो।

विशेषज्ञ बताते हैं, कि बच्चों और किशोरों को एक संतुलित आहार की आवश्यकता होती है। ताकि उन्हें आवश्यक ऊर्जा प्राप्त हो और उनका शरीर और दिमाग ठीक से विकसित हो सके। बहुत से बच्चे, जो कम वजन के हैं, कमजोर हैं या आसानी से बीमार पड़ जाते हैं, उन्हें अपने दैनिक आहार में दाल और दाल जैसे स्वस्थ खाद्य पदार्थों को शामिल करने की आवश्यकता होती है।

यह भी ध्यान रखें

एक बात जिसका हम सभी को ध्यान रखना चाहिए कि ‘हर चमकती चीज सोना नहीं होती’, और यह बात हमारे द्वारा खाई जाने वाली दालों पर भी लागू होती है। तो बुद्धिमान बनें! और चमक से ज्यादा अपने स्वास्थ्य को चुनें।

यह भी पढें: वजन कम कर रही हैं, तो इन 5 साबुत अनाजों को करें डाइट में शामिल और इन 3 से करें परहेज

 

Source link

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *