दिल्ली में कोरोना वायरस के बढ़ते कहर को देखते हुए राजधानी में जारी पाबंदियां कुछ दिनों के लिए और बढ़ सकती हैं। शनिवार को सीनियर अधिकारियों ने कहा कि दिल्ली सरकार कम से कम एक सप्ताह के लिए और लॉकडाउन और बढ़ा सकती है। फिलहाल, केजरीवाल सरकार ने राजधानी में 6 दिनों का लॉकडाउन लगाया है, जो 26 अप्रैल की सुबह तक जारी रहेगा। दिल्ली में कोरोना संक्रमण की दर 36 फीसदी तक पहुंच गई है। यही वजह है कि सरकार एक सप्ताह के लिए और लॉकडाउन की अवधि को बढ़ा सकती है। 

सरकार के एक सीनियर अधिकारी ने कहा कि दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (डीडीएमए) द्वारा रविवार को लॉकडाउन के बढ़ाने को लेकर एक आदेश जारी किया जाएगा। कोरोना मामलों में अचानक तेजी, अधिक संक्रमण दर और ऑक्सीजन संकट की वजह से यह फैसला लिया गया है। बड़ी संख्या में मरीजों के अस्पताल में भर्ती होने और ऑक्सीजन को लेकर हाहाकार मचा हुआ है। ऐसी स्थिति में अगर लॉकडाउन को हटा दिया जाता है, तो एक गंभीर कानून-व्यवस्था की स्थिति हो सकती है। 

राजधानी में कोरोना वायरस के मामलों में बढ़ोतरी का हवाला देते हुए निवासियों के कल्याण संघों (आरडब्ल्यूए) और व्यापारियों के संघों ने शनिवार को प्रतिबंधों के विस्तार की मांग की। बता दें कि 19 अप्रैल को दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने 6 दिनों के लॉकडाउन की घोषणा की थी। कल यानी सोमवार को उसकी मियाद पूरी हो रही है, ऐसे में माना जा रहा है कि आज और एक सप्ताह के लॉकाडाउन का फिर ऐलान हो सकता है। 

यूनाइटेड रेसीडेंट ऑफ दिल्ली के जेनरल सेक्रेटरी सौरभ गांधी ने कहा कि हम मांग कर रहे हैं कि कम से कम 14 दिनों के लिए लॉकडाउन लगाया जाए। दिल्ली में हर दिन कम से कम 25,000 रोजोना कोरोना केस आ रहे हैं, जबकि परीक्षणों की संख्या में कमी आ रही है। ऑक्सीजन के लिए जिस तरह का संकट है, ऐसी स्थिति में कोई भी आर्थिक गतिविधियों को खोलने की कल्पना भी नहीं कर सकता है। 

कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (CAIT) एक बयान में कहा कि शहर भर के 100 से अधिक प्रमुख संगठनों ने 26 अप्रैल से 2 मई तक दिल्ली के बाजारों के “वॉल्यूंटरी सेल्फ लॉकडाउन” का करने का निर्णय लिया है। बता दें कि सीएम अरविंद केजरीवाल ने पिछले सोमवार को उपराज्यपाल अनिल बैजल से मीटिंग के बाद लॉकडाउन का फैसला लिया था। सीएम ने प्रेस कांफ्रेंस में कहा था कि सोमवार रात को 10 बजे से अगले सोमवार को सुबह 5 बजे तक 6 दिन के लिए दिल्ली में लॉकडाउन लगाया जा रहा है। इस दौरान आवश्यक सेवाएं जारी रहेंगी, मेडिकल व्यवस्थाओं की, खाने-पीने की सेवाएं जारी रहेंगी। शादियां भी होंगी, पर 50 लोगों के साथ, उसके लिए अलग से पास दिए जाएंगे।

68 फीसदी लॉकडाउऩ के पक्ष में

दिल्ली में कोरोना का कहर थमने का नाम नहीं ले रहा है। ऐसे में वहां के 68 फीसदी बाशिंदे क्षेत्र में लागू लॉकडाउन की अवधि कम से कम एक हफ्ते बढ़ाने के पक्षधर हैं। सिर्फ नौ प्रतिशत को लगता है कि राष्ट्रीय राजधानी में प्रभावी लॉकडाउन समेत सभी पाबंदियां 26 अप्रैल के बाद हटा देनी चाहिए। ‘लोकलसर्किल’ का हालिया सर्वे तो कुछ यही बयां करता है।

दिल्ली में कोरोना के हालात

दिल्ली में कोरोना वायरस संक्रमण के शुक्रवार को 24331 नए मामले सामने आए और एक दिन में अब तक सर्वाधिक 348 लोगों की मौत हो गई। संक्रमण दर में हालांकि कुछ कमी आई है। शुक्रवार को संक्रमित पाए जाने की दर 32.43 प्रतिशत है। यह दर कल 36 प्रतिशत से ज्यादा हो गई थी। 



Source link

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *