Alibaba GettyImages 1174671524


शंघाई: चीन के नियामकों ने ई-कॉमर्स की दिग्गज कंपनी अलीबाबा पर 18.2 बिलियन युआन (2.78 बिलियन डॉलर) का जुर्माना लगाया है. कंपनी पर यह जुर्माना मार्केट पोजिशन का दुरुपयोग करने के आरोप मे लगाया गया है. न्यूज एजेंसी सिन्हुआ ने कहा कि मार्केट रेगुलेशन एडमिनिस्ट्रेशन ने दिसंबर में अलीबाबा की जांच शुरू होने के बाद जुर्माने का आकलन किया था.

चीन के नियामकों के मुताबिक अलीबाबा ने एकाधिकार विरोधी कानूनों का उल्लंघन किया है. इसके साथ ही मार्केट में अपनी पोजिशन का भी दुरुपयोग किया. सिन्हुआ ने कहा कि नियामकों ने अलीबाबा की 2019 में हुई 459.7 बिलियन युआन बिक्री के चार प्रतिशत के बराबर जुर्माना लगाया है जो करीब 2.78 बिलियन डॉलर है.

दबाव में हैं चीनी टेक कंपनियां

अलीबाबा और दूसरी मुख्य चीनी टेक कंपनियां के उनके प्रभाव को लेकर बढ़ती चिंता के बीच दबाव में आ गई हैं. इन प्लेटफॉर्म का उपयोग कस्टमर्स खरीदारी करने, बिलों का भुगतान करने, टैक्सी बुक करने, लोन लेने और दूसरे डेली टास्क के लिए करते हैं. अलीबाबा तब जांच के दायरे में आ गई जब सह-संस्थापक जैक मा ने चीनी नियामकों की आलोचना की. अलीबाबा के एंट ग्रुप के लोन, वेल्थ मैनेजमेंट और बीमा में बढ़ते प्रभाव को लेकर चीनी नियामकों ने कई बार चिंता व्यक्त की थी.

रेगुलेटर्स की आलोचना के बाद जैक मा की कंपनियों के खिलाफ कार्रवाई

जैक मा की दिक्कतें तब शुरू हुई थीं, जब उन्होंने 24 अक्टूबर 2020 को सार्वजनिक मंच से चीन के रेगुलेटरी सिस्टम के कथित पक्षपात की कड़ी आलोचना की थी. उन्होंने इसमें चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग पर भी सवाल उठाए थे. जैक मा की इस सार्वजनिक आलोचना को चीन के स्टेट डोमिनेट वित्तीय क्षेत्र के लिए एक चुनौती के रूप में देखा गया. इसके बाद एंट ग्रुप का 37 अरब डॉलर का आईपीओ टल गया था.

यह भी पढ़ें

अब LinkedIn के डाटा लीक की खबरें, ऑनलाइन बेची जा रही है 500 मिलियन यूजर्स की निजी जानकारी ?

दुनियाभर में कोरोना का टीका लगाने की मुहिम तेजी से बढ़ रही आगे, फाइज़र-बायोटेक की वैक्सीन निभा रहीं अहम भूमिका



Source link

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *