rafale and mirage fly through ladakh preparing for indian air force amidst escalation from china 1600648543


पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव होने वाले। इस बीच भारतीय वायुसेना राफेल लड़ाकू विमान के दूसरे दस्ते को अप्रैल के मध्य में शामिल करने जा रही है। इस दस्ते को पश्चिम बंगाल के हाशिमारा वायु सेना अड्डे पर शामलि किया जाएगा। एयरफोर्स के एक अधिकारी ने इसकी जानकारी देते हुए यह भी कहा कि फ्रांस में लड़ाकू पायलटों का प्रशिक्षण लगभग पूरा हो गया है।

आपको बता दें कि इससे पहले सरकार ने कहा था कि अब तक 11 राफेल विमान भारत आ चुके हैं तथा मार्च तक 17 और ऐसे विमान भारत को मिल जाएंगे। यह जानकारी राज्यसभा में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने एक सवाल के जवाब में दी थी। उन्होंने बताया, ”अब तक 11 राफेल विमान भारत आ चुके हैं तथा मार्च तक 17 और ऐसे विमान भारत को मिल जाएंगे। अप्रैल 2022 तक भारत को पूरे राफेल मिल जाएंगे।” 

29 जुलाई को भारत पहुंची थी राफेल विमानों की पहली खेप
राफेल विमानों की पहली खेप 29 जुलाई को भारत पहुंची थी। लगभग छह सप्ताह बाद इन विमानों को भारतीय वायु सेना में शामिल करने के लिए एक समारोह आयोजित किया गया था। एक अन्य प्रश्न के जवाब में रक्षा मंत्री ने कहा कि करीब चार साल पहले भारत ने फ्रांस से 59,000 करोड़ रुपये की लागत से 36 राफेल विमान खरीदने के लिए एक समझौता किया था। दूसरी खेप में तीन नवंबर को तीन और तीसरी खेप में 27 जनवरी को तीन अन्य राफेल विमान भारत आए। रूस से सुखोई जेट विमानों की खरीदी के 23 साल बाद राफेल के रूप में भारत ने लड़ाकू विमानों की बड़ी खरीद की है। इन विमानों का पहला स्क्वाड्रन अंबाला वायु सेना स्टेशन में तैनात है और दूसरा स्क्वाड्रन पश्चिम बंगाल के हासिमारा वायु सेना स्टेशन पर तैनात होगा।





Source link

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *