शेयर बाजार में लगातार पांचवें कारोबारी सत्र में भी तेजी जारी रही। आज नई ऊंचाई से फिसलने के बावजूद नए रिकॉर्ड के साथ बंद हुआ। बीएसई का तीस शेयरों वाला संवेदी सूचकांक सेंसेक्स 117 अंकों की बढ़त के साथ 50731 के स्तर पर बंद हुआ। वहीं नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी आज 15000 का स्तर पार करने के बाद 28.60 अंकों की मामूली तेजी के साथ 14,924.25 के स्तर पर आज फरवरी के पहले कारोबारी हफ्ते के अंतिम कारोबारी दिन को समाप्त किया। सेंसेक्स पर एसबीआई के स्टॉक में सबसे ज्यादा 10.69 की उछाल देखी गई।

यह भी पढ़ें: सोना-चांदी वायदा कीमतों में तेजी, कच्चे तेल का भी बढ़ा भाव 

बता दें आज सेंसेक्स एक नए शिखर से कारोबार की शुरुआत की और 51,073 अंकों तक पहुंचकर फिसल गया। फिसले की वजह आरबीआई की मौद्रिक नीति रही, जिसकी दरों में कोई बदलाव नहीं हुआ। क्रेडिट पॉलिसी से पहले पीएसयू बैंकिंग शेयरों में जबरदस्त उछाल देखने को मिल रहा था। बता दें  सेंसेक्स आज 417 अंकों की तेजी के साथ 51,031 के स्तर पर खुला वहीं नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी भी ऑलटाईम हाई से अपने कारोबार की शुरुआत की। 

सेंसेक्स में सर्वाधिक लाभ में भारतीय स्टेट बैंक

सेंसेक्स के शेयरों में सर्वाधिक लाभ में भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) रहा। इसें 10 प्रतिशत से अधिक की तेजी आयी। इसके अलावा कोटक बैंक, डा. रेड्डीज, अल्ट्राटेक सीमेंट, आईटीसी और एचडीएफसी बैंक में भी अच्छी तेजी रही। दूसरी तरफ जिन शेयरों में गिरावट दर्ज की गयी, उनमें एक्सिस बैंक, भारती एयरटेल, आईसीआईसीआई बैंक, मारुति और एचसीएल टेक शामिल हैं।

रिलांयंस सेक्योरिटीज के रणनीतिक प्रमुख विनोद मोदी ने कहा कि घरेलू शेयर बाजार में तेजी जारी रही है मानक निफ्टी एक समय 15,000 के मनोवैज्ञानिक स्तर से ऊपर निकल गया। हालांकि बाद में यह 15,000 के नीचे बंद हुआ। उन्होंने कहा, ”आरबीआई की मौद्रिक समीक्षा मोटे तौर पर आशा के अनुरूप रही। गिल्ट खाते के जरिये बांड बाजार में खुदरा निवेशकों की भागीदारी और लक्षित दीर्घकालीन रेपो परिचालन (टीएलटीआरओ) के तहत सदा सुलभ आधार पर एनबीएफसी के लिये कोष की उपलब्धता जैसे कदमों से निवेशकों का भरोसा बढ़ा है।

इससे पहले, भारतीय रिजर्व बैंक(आरबीआई) ने नीतिगत दर रेपो में कोई बदलाव नहीं किया और सरकार के उच्च स्तर पर कर्ज को प्रबंधित करने के लिये पर्याप्त नकदी के जरिये अर्थव्यवस्था को समर्थन उपलब्ध कराने का आश्वासन दिया। एशिया के अन्य बाजारों में हांगकांग का हैंगसेंग, दक्षिण कोरिया का कोस्पी, जापान का निक्की लाभ में रहे जबकि शंघाई कंपोजेटि सूचकांक नुकसान में रहा।   यूरोप के प्रमुख बाजारों में भी शुरूआती कारोबार में तेजी रही।  इस बीच, वैश्विक तेल मानक ब्रेंट क्रूड 0.95 प्रतिशत की बढ़त के साथ 59.56 डॉलर प्रति बैरल पर पहुंच गया।

रसातल से 51 हजारी तक ऐसे पहुंचा सेंसेक्स

  • मालूम हो कि मार्च में निचले स्तर पर पहुंचने के बाद आठ अक्तूबर को सेंसेक्स 40 हजार के पार 40182 पर पहुंच गया था।
  • पांच नवंबर को सेंसेक्स 41,340 पर बंद हुआ था। 10 नवंबर को इंट्राडे में इंडेक्स का स्तर 43,227 पर पहुंचा था, जबकि 18 नवंबर को 44180 और चार दिसंबर को इसने 45000 का आंकड़ा पार किया। 
  • नौ दिसंबर को सेंसेक्स पहली बार 46000 के ऊपर 46103.50 के स्तर पर बंद हुआ। 
  • 14 दिसंबर को सेंसेक्स 46284.7 पर खुला, वहीं  21 दिसंबर को सेंसेक्स 47055.69 के स्तर पर पहुंच गया। 
  • 30 दिसंबर को सेंसेक्स 47,807.85 अंक तक चला गया था। इसके बाद नए साल में 48 हजार का स्तर पार करते हुए सेंसेक्स बुधवार 6 दिसंबर को 48616.66 के नए शिखर पर खुला था। 
  • 8 दिसंबर को सेंसेक्स  48797.97 के नए शिखर को छू लिया। जबकि 11 दिसंबर को शुरुआती कारोबार में ही सेंसेक्स एक नए शिखर 49260.21  अंक पर पहुंच गया। 
  • वहीं 12 जनवरी को  49569.14 का आंकड़ा छुआ और अब 13 जनवरी को सेंसेक्स एक नए शिखर पर था
  • 21 जनवरी को सेंसेक्स ने एक और इतिहास रचते हुए  50,184.01 के ऑलटाइम हाई पर पहुंच गया।
  • 5 फरवरी को सेंसेक्स 51073का नया शिखर छूआ। निफ्टी भी 15000 के पार पहुंचा



EMI Calculator:
EMI Calculator

Source link

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *