Whatsapp


आज पूरी दुनिया में करोड़ों लोग WhatsApp का इस्तेमाल कर रहे हैं. कम्युनिकेशन के लिए व्हाट्सऐप से अच्छा और फेमस प्लेटफॉर्म शायद ही कोई होगा. यही वजह है भारत समेत पूरी दुनिया में लोग व्हाट्सऐप पर चैट, फोटो, वीडियो या डॉक्यूमेंट फाइल भेजते हैं. व्हाट्सऐप पर हमारा जरूरी डाटा भी मौजूद रहता है. हालांकि अब प्राइवेसी अपडेट की खबरों के बाद से लोगों का भरोसा व्हाट्सऐप से कम हुआ है. लेकिन फिर भी बहुत सारे लोग अभी भी इस ऐप का इस्तेमाल करते हैं. ऐसे में आपके कीमती डेटा पर हैकर्स की भी नज़र रहती है. आजकल WhatsApp के जरे कई तरह के फ्रॉड सामने आ रहे हैं. व्हाट्सऐप से आपका डाटा चोरी होने के अलावा शातिर हैकर्स आपके अकाउंट को भी हैक कर सकते हैं. इसलिए व्हाट्सऐप यूजर्स को इन खास बातों का ध्यान जरूर रखना चाहिए. आइये जानते हैं व्हाट्सऐप के जरिए कैसे की जा रही है धोखाधड़ी और क्या है व्हाट्सऐप का नया OTP स्कैम.

1- व्हाट्सऐप इस्तेमाल करते वक्त ध्यान रखें कि हैकर सबसे पहले आपको किसी जानने वाले के नाम से ही मैसेज भेजते हैं. मैसेज में ऐसा कुछ होगा जिससे आपको लगेगा कि मैसेज भेजने वाला मुसीबत में है. हैकर्स आपके दोस्त या रिश्तेदार के नंबर से भी मैसेज भेज सकते हैं.

2- जब आप मैसेज भेजने वाले फ्रेंड या रिश्तेदार से बात करने लगेंगे तो वो आपके फोन पर एक OTP भेजेगा और कहेगा कि गलती से OTP तुम्हारे व्हाट्सऐप पर चला गया है वो उसे बता दें. लेकिन आपको जानकार हैरानी होगी कि ओटीपी के जरिए हैकर आपके अकाउंट को हैक करना चाहता है.

3- अगर आपने ओटीपी बता दिया तो आपके नंबर से हैकर के फोन में व्हाट्सएप चालू हो जाएगा. आपको बता दें व्हाट्सएप को किसी नए डिवाइस में इंस्टॉल करने के लिए ओटीपी की जरूरत होती है हैकर आपसे वही ओटीपी मांग रहा होता है.

4- अब आपका व्हाट्सऐप अकाउंट हैकर के कब्जे में आ जाता है. अब हैकर आपके नंबर से आपके फ्रेंड्स और परिजनों को पैसे भेजने के मैसेज करेगा. इसके अलावा हैकर आपको ब्लैकमेल कर परेशान कर सकता है. इस तरह के स्कैम से बचने के लिए आप किसी के साथ ओटीपी शेयर ना करें.

5- किसी भी तरह से स्कैम से बचने के लिए आप अपने व्हाट्सएप में टू फैक्टर ऑथेंटिकेशन ऑप्शन को भी ऑन कर लें. इसके बाद हैकर्स को या किसी दूसरी डिवाइस में व्हाट्सऐप चलाने से पहले ओटीटी के अलावा एक कोड की जरूरत होगी.



Source link

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *