bse provided solution for 440 complaints 1609818326


सकारात्मक वैश्विक रुझानों और विदेशी कोषों की लगातार आवक के बावजूद प्रमुख शेयर सूचकांक सेंसेक्स मंगलवार को शुरुआती कारोबार के दौरान 100 अंक से अधिक टूट गया और इस दौरान एचडीएफसी, कोटक बैंक और आईसीआईसीआई बैंक जैसे बड़े शेयरों में गिरावट हुई। 30 शेयरों पर आधारित बीएसई सेंसेक्स 117.77 या 0.24 फीसदी टूटकर 49,151.55 पर कारोबार कर रहा था। एनएसई निफ्टी 20.95 अंक या 0.14 प्रतिशत फिसलकर 14,463.80 अंक पर आ गया।

सेंसेक्स में सबसे अधिक दो प्रतिशत की गिरावट इंडसइंड बैंक में हुई। इसके अलावा कोटक बैंक, टाइटन, एशियन पेंट्स, बजाज ऑटो, टेक महिंद्रा और एचडीएफसी भी लाल निशान में कारोबार कर रहे थे। दूसरी ओर रिलायंस इंडस्ट्रीज, एलएंडटी, भारती एयरटेल, आईटीसी, बजाज फिनसर्व और टीसीएस में तेजी आई।

शेयर बाजार के अस्थाई आंकड़ों के मुताबिक विदेशी पोर्टफोलियो निवेशक (एफपीआई) ने सोमवार को सकल आधार पर 3,138.90 करोड़ रुपये के शेयर खरीदे। इस बीच वैश्विक तेल बेंचमार्क ब्रेंट क्रूड 0.05 फीसदी की गिरावट के साथ 55.63 अमेरिकी डॉलर प्रति बैरल पर कारोबार कर रहा था।
 

 

बीएसई सेंसेक्स कल सोमवार को 487 अंक उछलकर अब तक के सर्वोच्च स्तर पर बंद हुआ। विदेशी संस्थागत निवेशकों की जबर्दस्त खरीदारी, कंपनियों के मजबूत तिमाही नतीजों के आसरे और इन्फोसिस, एचडीएफसी बैंक, एचडीएफसी और एचसीएल टेक की अगुवाई में यह तेजी आई। तीस शेयरों वाला बीएसई सेंसेक्स 486.81 अंक यानी एक प्रतिशत बढ़कर 49,269.32 अंक पर बंद हुआ। कारोबार के दौरान एक समय यह 49,303.79 अंक के उच्चतम स्तर तक भी चला गया था। इसी प्रकार, नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 137.50 अंक यानी 0.96 प्रतिशत उछलकर 14,484.75 अंक पर बंद हुआ। कारोबार के दौरान इसने 14,498.20 अंक का स्तर भी छुआ। 

निवेशकों का भरोसा मजबूत हुआ
रिलायंस सिक्योरिटीज के रणनीतिक मामलों के प्रमुख विनोद मोदी ने कहा कि घरेलू शेयर बाजारों पर तेजड़िये हावी रहे और दोनों मानक सूचकांक नये रिकार्ड स्तर पर बंद हुए। टीसीएस और डी-मार्ट के बेहतर तिमाही वित्तीय परिणाम से निवेशकों का भरोसा मजबूत हुआ है। उन्होंने कहा, कोविड-19 मामलों में बेहतर सुधार होने तथा 16 जनवरी से टीकाकरण प्रक्रिया शुरू किये जाने की घोषणा से बजार के लिये लिये स्थिति संतोषजनक बनी है। पुन: कपनियों की आय के साथ प्रमुख आर्थिक आंकड़े बेहतर रहने की उम्मीद से बाजार निकट भविष्य में नई ऊंचाई छू सकता है। मोदी ने कहा कि वैश्विक अर्थव्यवस्था की स्थिति, केंद्रीय बैंकों के रुख और डॉलर के कमजोर होने के साथ एफपीआई (विदेशी संस्थागत निवेशक) निवेश आगे भी जारी रह सकता है।



EMI Calculator:
EMI Calculator

Source link

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *