Investment Tips Symbolic Image 1540770182


विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (एफपीआई) ने जनवरी में भारतीय बाजारों में शुद्ध रूप से 14,649 करोड़ रुपये का निवेश किया है। वैश्विक स्तर पर उपलब्ध तरलता के बीच एफपीआई उभरते बाजारों में पैसा लगा रहे हैं।   डिपॉजिटरी के आंकड़ों के अनुसार, एक से 29 जनवरी तक एफपीआई ने शेयरों में शुद्ध रूप से 19,473 करोड़ रुपये डाले। इस दौरान उन्होंने ऋण या बांड बाजार से 4,824 करोड़ रुपये की निकासी की। इस तरह उनका शुद्ध निवेश 14,649 करोड़ रुपये रहा। 

उभरते बाजारों में निवेश कर रहे एफपीआई

मॉर्निंगस्टार इंडिया के एसोसिएट निदेशक (प्रबंधक शोध) हिमांशु श्रीवास्तव ने कहा, ”दुनियाभर के केंद्रीय बैंकों और सरकारों द्वारा कोरोना वायरस महामारी के बीच प्रोत्साहन उपाय किए गए हैं, इससे वैश्विक वित्तीय बाजारों में अतिरिक्त तरलता उपलब्ध है। ऐसे में विदेशी निवेशक उभरते बाजारों में निवेश कर रहे हैं, जिसका लाभ भारत को भी मिल रहा है। 

यह भी पढ़ें: बजट के दिन सस्ता सोना खरीदने का बेतरीन मौका, जानें कैसे

जियोजीत फाइनेंशियल सर्विसेज के मुख्य निवेश रणनीतिकार वीके विजयकुमार ने कहा कि बजट प्रस्तावों को लेकर अनिश्चितता की वजह से एफपीआई अभी बाजार की दिशा को लेकर असमंजस में हैं। इस वजह से पिछले कुछ दिन से वे बिकवाली कर रहे हैं।  उन्होंने कहा कि नवंबर और दिसंबर में उभरते बाजारों में भारत को एफपीआई से सबसे अधिक निवेश मिला है। इसी वजह से सेंसेक्स 50,000 अंक के रिकॉर्ड स्तर पर पहुंचा था।  उन्होंने कहा, ”अब बजट को लेकर अनिश्चितता की वजह से एफपीआई मौजूदा स्तर पर मुनाफा काट रहे हैं। 



EMI Calculator:
EMI Calculator

Source link

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *