बजट के दिन अक्सर शेयर बाजार लड़कखड़ा जाता है। पिछले 10 साल का ट्रेंड तो यही कह रहा है। प्रणव मुखर्जी से लेकर निर्मला सीतारमण तक, वित्त मंत्री चाहे जो रहा हो, बजट के दिन शेयर बाजार का रिएक्शन कभी ठंडा तो कभी बेहोशी वाला रहा है। बजट के दिन पिछले 10 साल में केवल तीन बार ही सेंसेक्स में बढ़त देखने को मिली है और सात बार बाजार को निराशा हाथ लगी है।

यह भी पढ़ें: SAIL को तीसरी तिमाही में 3645 करोड़ का मुनाफा

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के समय में दोनों बार बाजार गिर चुका है। अंतरीम बजट के समय 5 जुलाई 2019 को सेंसेक्स 395 अंक टूटा था तो वहीं 1 फरवरी 2020 को आम बजट के दिन सेंसेक्स 900 अंक लुढ़क गया था। वहीं 2010 से लेकर 2012 तक प्रणव मुखर्जी के समय बजट के दिन सेंसेक्स दो बार गिर चुका है। वहीं पी. चिदंबरम ने 28 फरवरी 2013 को बजट पेश किया था और सेंसेक्स 291 अंक फिसल गया था। वहीं अरूण जेटली ने 2014 से 2018 तक कुल 5 बजट पेश किए और इस दौरान दो बार बाजार में तेजी दिखी थी।

यह भी पढ़ें: स्टार्टअप सरकार से मिली मदद को बेवजह खर्च नहीं कर पाएंगे

पिछले 10 बजट के दिन सेंसेक्स का हाल

तारीख वर्ष वित्त मंत्री तेजी/गिरावट
26 फरवरी 2010 प्रणब मुखर्जी -175
28 फरवरी 2011 प्रणब मुखर्जी 123
16 मार्च 2012 प्रणब मुखर्जी -220
28 फरवरी 2013 पी. चिदंबरम -291
10 जुलाई 2014 अरूण जेटली -72
28 फरवरी 2015 अरूण जेटली 141
29 फरवरी 2016 अरूण जेटली -52
01 फरवरी 2017 अरूण जेटली 476
01 फरवरी 2018 अरूण जेटली -59
05 जुलाई 2019 सीतारमण -395
01 फरवरी 2020 सीतारमण -900

स्रोत: BSE

यह भी पढ़ें: बजट से पहले शेयर बाजार मायूस, सेंसेक्स 588 और निफ्टी 183 अंक लुढ़का

बजट के दिन पिछले 10 साल में पिछले साल सबसे बड़ी गिरावट हुई थी। पिछले साल आम बजट 2020-21 से निवेशक इस कदर निराश हुए की बंबई शेयर बाजार का सेंसेक्स 988 अंक टूटकर 40,000 अंक के स्तर से नीचे आ गया और एनएसई निफ्टी 276.85 लुढ़क कर 11,685.25 अंक पर बंद हुआ। इस बार यानी एक फरवरी 2021 को बाजार किस करवट बैठेगा अभी ये कहना मुश्किल है। हालांकि ज्यादातर विशेषज्ञ बाजार गिरने का अनुमान लगा रहे हैं। 



EMI Calculator:
EMI Calculator

Source link

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *